Sunday, April 11, 2010

????????

आज फिर उम्मीद का हाथ थामकर, उदासी को काँधों पर लिए,
आँखों से नमी के परे झांकते, ज़िन्दगी कि सरहद ढूँढने निकले हैं,
क्या जानें इस राह कि मंजिल है कि नहीं......

1 comment:

Bidisha said...

"इस राह कि मंजिल है" - us roshni ki kiran gar dikh jaye...

kehte hai har raat ke andhere ko hatane suraj nikalta hai, par gar samai hi tham jai us sanjh par?

Sorry, my hindi is getting terrific day-by-day...so has my English.. :-P.. hope u understand what I meant.