Monday, May 25, 2009

उम्र का पड़ाव !

सावन की ये पहली फुहार, चाय की चुस्की, गरमा-गरम पकोडों की प्लेट , और कुछ नरम गुदगुदाती यादें, वो कॉलेज के दिन, भीगता हुआ बेपरवाह अल्हड़पन,यौवन की अटखेलियाँ और कुछ ख़ुद से किए हुए वादे,
कहाँ खो गया वो बातों का अनमोल खजाना,वो दिन में खुली आंखों से सपने सजाना, रातों को तारे गिनना और अकेले -अकेले में सपने बुनते हुए ,बिन बात मुस्कुराना।

खुश होने के लिए वजह ज़रूरी नहीं होती थी,हँसते वक्त दुनिया क्या सोचेगी इसकी कदर भी नहीं होती थी, दुनिया हम से शुरू हो कर हम पर ही आकर रूकती थी, कल किसने देखा है आज को आज ही जी लें, यही हमारी हस्ती थी।

बारिश आज फिर हुई पर कामवाली बाई छुट्टी मार गई, सूखे कपड़े उठाने जाने में कुछ देर कर दी तो ख़ुद तर-बतर हो गई, अभी संभाल भी न पायी थी ख़ुद को की यकायक दरवाज़े की घंटी बजी, दौड़ कर खोला उसे तो सामने पडोसन खड़ी थी, दोस्तों से मिलना जीवन हुआ करता था कभी, आज इस बेवक्त आए दोस्त को देख कर चहरे की रंगत उतर गई, रसोई के बर्तन आधे में छोढ़ मेहमान नवाजी में लगना पड़ा ,क्या हो गया है मुझे , क्यों किसी से पल दो पल मिलना, इतना भारी लगा????????

और पकोडे आज उतने दिलकश नहीं लगे, चाय की भाप की धुंध में बीते साल साफ़ दिखने लगे ,
ज़िम्मेदारी के बोझ तले , गृहस्ती के चक्रव्यूह में फंसकर खो दिया है शायद अपना अस्तित्व ,
वो बोल रही थी, मैं सुन रही थी पर समझ कुछ नहीं आ रहा था ,
बारिश जैसे पत्ते-२ को धो देती है ऐसे ही मेरे मस्तिष्क से धुआं छठा जा रहा था ।









6 comments:

Nimisha said...

ab aisi hi taveer ho gayi hai hamaare jeewan. jaise bahut saare chatkeele rang gum ho gaye ho.
chalo, hum dono mil ke un rangon ko dudhte hain....dard ke humsafar....

nidhi said...

"Dard ke humsafar", kitna pyara naam diya hai tumne humari dosti ko nimisha. Lekin aise kyon kaha ki jeevan ke chatkeele rang gum ho gaye hain, mere hote hur itni udassi kyon?????? Mud ker dekho sunny ki taraf phir se, ek sampoorna maa hone ke khyaal hi har indradhanush ko feeka ker deta hai phir kabhi aise mut bolna.samjhi.

Pal said...

Nidhi its so true so many times i
also look back and find that small small things that used to give me high no longer elicit that response from now...have i become so hard? Kabhi dil karta hai purani sehaliyon so miloo aur purane din phir se jee lu...phir sochti hu iss ghar girshati ne sab ko itna sakht bana diya hogha...mujhe nahin lagta koi bach paya hogha.....main Zindghi ke uss mor se guzar rahi hu jahan bhaoot sare sawal utth rahe hai dimaag main ...jawab pata nahin kab mile.

nidhi said...

Theek kehti ho @pal, yun to fursat ko taraste hain hum log phir bhi ajeeb si bechaini aur suna sa khaalipan hai, zindagi sirf ek aadat ban gayi hai, is mein koi romanch nahin reh gaya hai.......

nidhi said...
This comment has been removed by the author.
shilpa said...

Hey nidhi,
This was awesome..her ek line me kitna sach hain..sahi main umra ka padav badi jaldi rang dikahne laga hain is choti si jindgi main..
I got emotional after reading your post..

keep writing :)
Shilpa Maheshwari from IMW